कोई बात नही खुशी ना सही
गम को ही हम तो दामन में समेट लिया करते है
आसमां गर ना दे पनाह हमको
हम तो है “खानाबदोश” किसी के भी दिल में गुजर कर लिया करते है।
हवाओं में खुशबू बनकर हम तो ऐ जानिब
उनकी साँसों में जिदगीं अपनी हम तो बसर कर लिया करते है।

र्दद को राहत कभी मिलती नही इसका है यकीं
जहर को भी दवा समझ हम तो पी लिया करते है
धडकता है सीने में दिल हमारे कुछ इस तरह से
बस तेरे नाम से घड़ी-दर-घड़ी हम तो जी लिया करते है।
लोगों को है गुरुर अपनी रियासतों और रुतबों का
हमारा क्या यारों,
हम तो अपने फाकों पर भी फक्र कर लिया करते है।

#सरितासृजना

Advertisements