1) अतीत को भुलाकर
वर्तमान में जिएँ
भविष्य को स्वीकार करें।

2) माँगे हुए सम्मान में और
मिले हुए सम्मान में
बहुत फर्क होता है।
माँगी गई चीज भीख होती है
मिली हुई चीज वरदान होती है।

#सरितासृृजना

Advertisements