मुझको बडा परेशान कर जाती है
जिदगीं की ये मुश्किलें
क्या बताऊँ दोस्तों , मुझको
कितना हैरान कर जाती है ये मुश्किलें।

मुस्कुराहटों पर जब देखो तब
मेरे आकर ,पहरे लगा जाती है ये मुश्किलें
क्या बताऊँ दोस्तों ,मुझको
मेरी नींद से हर रात जुदा कर जाती है ये मुश्किलें।

मेरी खुशियाँ तरस जाती है मुझको
उनको कोसों दूर मुझसे कर जाती है ये मुश्किलें
क्या बताऊँ दोस्तोँ ,मुझको
भीड़ में अक्सर अकेला सा कर जाती है ये मुश्किलें

कहना जब भी चाही मन की बात
कुछ अलग रुप मेँ आ जाती है ये मुश्किलें
क्या बताऊँ दोस्तों , मुझको
अलग-अलग अपने अंदाज दिखा जाती है ये मुश्किलें।

#सरितासृजना

Advertisements