परवाने ने तो आज जल जाने की ठानी है

बता ऐ शम्मा तेरा इरादा क्या है

बुलबुल ने तो आज पिंंजरा तोड उड जाने की ठानी है

बता ऐ सैयाद तेरा इरादा क्या है

मोहब्ब्त ने तो आज कुर्बांं हो जाने की ठानी है

बता ऐ तकदीर तेरा इरादा क्या है

आसमांं ने तो आज झुक जाने की ठानी है

बता ऐ जमींं तेरा इरादा क्या है

किसी के आँँसुओंं ने तो आज बह जाने की ठानी है

बता ऐ मुस्कुराहट तेरा इरादा क्या है

किसी के ख्वाबोंं ने तो आज लुट जाने की ठानी है

बता ऐ नींंद-औ-चैन तेरा इरादा क्या है

बादलोंं मेंं चाँँद ने तो आज छुप जाने की ठानी है

बता ऐ रात के सितारे तेरा इरादा क्या है

#सरितासृृजना

Advertisements