है ये दस्तूर जमाने का ऐसा,

तुझको हर कदम-कदम पर तौला औ परखा ही जायेगा।

है गर तुझमेंं जुगनूओंं वाली रोशनी,

तेरा फ़न इस दुनिया मेंं आईने की तरह चमक ही जायेगा।

आसांं नही होता है खुद को साबित करना,

अपनी आजमाइश को कर बुंंलद इतना,

कि तेरा ज़लवा इस ज़मींं पर हर तरफ छा जायेगा।

अपने हौसलोंं पर करना होगा तुझको भरोसा इतना,

कि ऊपर बैठे खुदा का फैसला भी,

इक दिन यारोंं यकीनन बदल ही जायेगा।

आज जिस कामयाबी को तरस रही है रुह तेरी,

हो सकता है कल वही किस्मत का सितारा,

तेरे कदमोंं मेंं आके बिखर  जायेगा।

सोच को रखना हमेशा अपनी पाक औ साफ,

तेरे शख्शियत की खुशबू गुलाब के फूलोंं की तरह,

यहाँँ के चमन मेंं यारोंं इक दिन तो महक  जायेगा।

लड़खड़ाते है रास्तोंं पर आज जो कदम तेरे,

कल वही कदमोंं का क़ाफिला मंंजिल पे पँहुकर,

 अपनी बेफ्रिकी से संंभल ही जायेगा।

#सरितासृृजना

Advertisements