मैंं बिरहन,

     मैंं का जानू दुनिया की रीत रे,

              जो जानू, तो बस जानू अपना मनमीत रे।

पीय गये है,

      छोडकर जब से हमको बिदेस रे,

                मनवा करता हमसे रोज, सौ सौ कलेस रे।

काहे नाही आती,

       तुम्हरी कोई पाती,

                तुम का जानो कैसे हम है रह पाती।

तकते उस डगरी को,

          जिससे तुम गये पिया,

                   मन मेंं इक हूक उठे, निकला जाय हमरा जिया

देती रहती सखियाँँ,

           सब हमको उलहन,

                    का बतलाउ जी मेंं कैसी है ये उलझन।

जी का जंंजाल बना,

         तुम संंग हमको नेहा लगाना,

                मंंहगा पड गया सईया हमको तुम संंग प्रीत निभाना ।

#सरितासृृजना

Advertisements