अपनी खुशियोंं मेंं एक छोटा सा हिस्सा 

उसको भी बनाओंं

किसी के होंंठो पर लाकर मुस्कुराहट

उस “गरीब” के दिल मेंं अपनी जगह बनाओंं

खुशियाँँ बडी ही अनमोल होती है

क्युँँकि वो बाजारोंं मेंं नही मिलती है।

वो तो मुस्कुराहट से निकलकर 

एक फासला तय करती  हुई 

किसी “गरीब “के दिल मेंं जा बसती है ।

#सरितासृृजना

Advertisements