निकले थे जाने को कहींं 

कहींं ओर चल पडे है,

नदी के दो किनारे देखिए,

एक छोर आप और ,

एक छोर हम खडे है।

#सरितासृृजना

Advertisements