डाल दी है अरमानोंं की क़श्ती

ज़माने के संंमदर मेंं।

ख़्वाहिश है बस इतनी सी हमारी,

इतिहास का एक पन्ना मेरे नाम का भी हो।

#सरितासृृजना

Advertisements