वो आवाज जो कानोंं से दिल मेंं उतर जाये

अब ढुँँढते फिरते है हम उनको तनहाईयोंं मेंं

वो जिसका था अपना वजूद अब उसको

ढूँँढते है हम

दुसरोंं की परछाईयोंं मेंं

#सरितासृृजना

Advertisements